Image of the day | NGC 4258 | पृथ्वी से काफी नजदीक....
Image Credit: X-ray: NASA/CXC/Caltech/P.Ogle et al; Optical: NASA/STScI; IR: NASA/JPL-Caltech; Radio: NSF/NRAO/VLA

यह जो आप उपर फोटो देख रहे हैं यह एक आकाशगंगा है इसका नाम NGC 4258 है।
पृथ्वी से लगभग 23 मिलियन प्रकाश वर्ष दूर है इसमें आतिशबाजी हो रहा है कागज पाउडर और आग के बजाय इस आकाशगंगा के प्रकाश शो एक विशाल ब्लैक होल शॉक वेव्स और गैस के विशाल जलाशय शामिल है।
यह गैलेक्टिक आतिशबाजी का प्रदर्शन NGC 4258 में हो रहा है, जिसे M106 के रूप में भी जाना जाता है
NGC 4258 मिल्की वे आकाशगंगा की तरह एक सर्पिल आकाशगंगा है

इसलिए समग्र फोटो में विषम भुजाओं को देखा गया जहां नासा के चंद्र एक्स-रे वेधशाला से एक्स-रे नीले हैं
BSF के कार्ल जंस्की बहुत बड़े सरणी से रेडियो डेटा बैंगनी हैं,
नासा के हबल स्पेस टेलीस्कोप से ऑप्टिकल डेटा पीले और अवरक्त डेटा हैं। नासा के स्पिट्जर स्पेस टेलीस्कोप से लाल हैं।

Extra Knowledge

Messier 106 is an intermediate spiral galaxy in the constellation Canes Venatici.

It was discovered by Pierre Méchain in 1781. M106 is at a distance of about 22 to 25 million light-years away from Earth


Spitzer space telescope के डाटा के एक नये अध्ययन से पता चलता है सुपर सोनिक ब्लैकहोल से सोनिक बूम के समान सदमे की लहरें बड़ी मात्रा में गैस को गर्म कर रही है
लगभग 10 मिलियन तारे के बराबर। इस आकाशगंगा में तरंगों को आखिर कौन पैदा कर रहा है

शोधकर्ताओं को लगता है NGC 4258 के केंद्र में जो ब्लैक होल है वह उच्च ऊर्जा कणों को शक्तिशाली जेट के रूप में उत्पादन कर रहा है
फिर यह जेट आकाशगंगा के डिस्क पर प्रहार करते हैं और शाॅक वेव्स उत्पन्न करते हैं।
ये झटके लहरें गैस को गर्म करती हैऔर मुख्य रूप से हाइड्रोजन अणुओं को हजारों डिग्री तक गर्म कर देती है

NASA के चंद्र एक्स-रे इस फोटो में आकाशगंगा के ऊपर और नीचे गर्म गैस के विशाल बुलबुलो का पता चलता है यह बुलबुले संकेत देते हैं
कि गैस का अधिकांश भाग जो मूल रूप से आकाशगंगा के डिक्स में था उसे ब्लैक होल के जेंट्स द्वारा बाहरी क्षेत्रों में निकाल दिया गया।
जेट द्वारा डिक्स से गैस की अस्वीकृति इस आकाशगंगा के भाग्य के लिए महत्वपूर्ण निहितार्थ है।

शोधकर्ताओं का अनुमान है कि शेष सभी गैसों को अगले 300 मिलियन वर्षों मे बाहर निकाल दिया जाएगा कॉस्मिक टाइम के स्केल पर
फिर जब तक कि इसे किसी तरह से फिर से भरा नहीं जाता है नए तारा बनना असंभव है
क्योंकि डिक्स में अधिकांश गैस पहले ही बाहर हो चुकी है नए तारों के बनने के लिए कम गैस उपलब्ध है

पर शोधकर्ताओं ने Spitzer space telescope के डेटा को उपयोग करके यह पता लगाया कि NGC 4258 के मध्य क्षेत्रों में एक दर पर सितारे बन रहे हैं
जो मिल्की वे आकाशगंगा की तुलना में लगभग 10 गुना कम है। यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के हर्शल स्पेस ऑब्जर्वेटरी का उपयोग करके
NGC 4258 के मध्य क्षेत्रों में निम्न स्टार गठन दर के स्पिट्जर डेटा के अनुमान की पुष्टि करने के लिए किया गया था।

हर्शेल का उपयोग आकाशगंगा के केंद्र में गैस के अवशेष के स्वतंत्र अनुमान लगाने के लिए भी किया गया था।
झटके के कारण अवरक्त उत्सर्जन में बड़ी वृद्धि की अनुमति देने के बाद, शोधकर्ताओं ने पाया कि गैस का द्रव्यमान पहले के अनुमान से दस गुना छोटा है।

क्योंकि NGC 4258 पृथ्वी के अपेक्षाकृत करीब है, खगोलविदों अध्ययन कर सकते हैं
कि यह ब्लैक होल अपनी आकाशगंगा को बहुत विस्तार से कैसे प्रभावित कर रहा है।